कार्य सिद्धि का अदभुत प्रयोग

Written by sdmadan. Posted in Other Topics, उपाय

impossible job

impossible job

- गोपाल राजू

आलौकिक शक्ति , धन – सम्पदा, वैभव , शत्रु दमन तथा आरोग्यता के लिए हनुमान जी का एक छोटा सा किन्तु बहुत ही प्रभावशाली प्रयोग है. जिसकी हनुमान जी में आस्था है वह धन संबंधी कष्टों के निवारण हेतु यह प्रयोग अवश्य करे. एक बार में वांछित फल न मिले तो प्रयोग को नियमित रूप से सप्ताह में दो बार मंगल तथा शनिवार को दोहराते रहें. किसी भी मंगलवार को यह प्रयोग कर सकते हैं. हनुमान जी का मन से ध्यान करके दायें हाथ में लाल पुष्प, सिंदूर और चावल लेकर संकल्प करें. सामने सरसों के तेल का आटे का दीपक जलाकर रख लें. यह ध्यान रखें कि दीपक को धरती पर नहीं रखना है. चावल का आसन बनाकर उस पर स्थापित करें. हनुमान जी को गुगुल कि धूनी वाली गंध बहुत प्रिय है. संभव हो तो यह व्यवस्था कर लें कि प्रयोग काल में गुगुल कि गंध वातावरण में व्याप्त rahe. उक्त सामग्री के साथ गंगाजल मिलकर भावमय पूजा, अर्चना- याचना करें. और जल सहित यह धरती पर छोड़ दें. अंत में ” हं हनुमते रुद्रत्मकाय  हूं फट ”  बोलकर ताली बजाएं और अपने दोनों हाथों से जोरदार चुटकी बजाकर अपने दोनों कानों का स्पर्श करके दिन – हिन् बनाकर अपना इष्ट कार्य दोहराएँ. बार – बार में लिखता हु कि प्रत्येक इच्छापूर्ति की कामना में भाव – श्रद्धा तो महत्वपूर्ण है ही. यदि दीन-हीन बनकर समर्पण की भावना मन में भरकर आंसू बहाकर  अपने को पूर्णतया देव में समर्पित कर दें फिर देखें चमत्कार.

गूगल

Written by sdmadan. Posted in उपाय

पूजा पथ में हम जिस धूपबत्ती का प्रयोग करते हैं गूगल उसका मुख्य अवयव होता है. गूगल  का वानस्पतिक नाम कोमिकोरा मुकुल है. गूगल के धुंए में पर्यावरण को शुद्ध करने की अद्भुत क्षमता होती है. इसी कारण प्राचीन कल से ही पूजा पाठ के समय गूगल की धूप बत्ती का प्रयोग वातावरण को शुद्ध करने के लिए किया जाता raha है. गूगल का पौधा सूखी और शुष्क जलवायु में चट्टानी भूमि पर उगता है. ८-१० वर्ष में केवल तीन या चार मीटर ऊँचा हो पाता है. हवन के समय वातावरण को शुद्ध करने के लिए गूगल का प्रयोग धर्म प्रेमी सदियों से करते आ रहे हैं. डायबिटीज  और आर्थ रायाथिस बिमारियों को दूर करने में रामबाण की तरह काम करता है. मोटापा काम करने और रक्त में कोलेस्ट्रोल की मात्रा को काम करने के लिए भी उपयोगी होता है. राजस्थान में अरावली की पहाड़ियों पर गूगल के वृक्ष लम्बे समय तक बहुतायत में मिलते रहे हैं. आज गूगल  का पौधा दुर्लभ प्रजाति की सूची में आ चुका है.

पारद शिवलिंग

Written by sdmadan. Posted in उपाय

पारद शिवलिंग  
भगवान शिव सभी देवों में सबसे सरलता से प्रसन्ना होने वाले हैं . भगवान शिव की पूजा के लिए शिवलिंग की आराधना की जाती है . भगवान शिव का प्रतीक शिवलिंग पारद के रूप में जिस घर में पूजास्थल में होता है वह घर सदा सर्वत्र मंगलमय, सुख और शांति से परिपूर्ण रहता है. पारद शिवलिंग की उपासना से ज्ञान, सिद्धि और एश्वर्य प्राप्त होता है. शारीरिक, मानसिक और अध्यात्मिक शक्ति का विकास करने में ये पूर्णतया सक्षम है. पारद शिवलिंग तांत्रिक प्रयोग के प्रभाव को पूजी तरह से समाप्त कर देता है. पारद वजन एसा लोहे से १६ गुना भारी होता है. पारद शिवलिंग के नित्य दर्शन मात्र से अकाल म्रत्यु का भय नहीं रहता. इसके प्रभाव से साधक की दरिद्रता का नाश होकर उसे धन-संपत्ति प्राप्त होती है. इसे घर, दुकान और कार्यालय में स्थापित किया जा सकता है. इसके दर्शन मात्र से अनेक पापों का नाश होता है. किसी भी मास की चतुर्दशी के दिन पारद शिवलिंग को पूजा स्थल पर पहली बार लाकर रखना चाहिए. शनि की साडे साती, वक्री शनि की दशा, राहू-केतु की दशा और अंतरदशा में पारद शिवलिंग का दर्शन करना श्रेष्ठ फलदायक होता है अशुभ ग्रहों का ख़राब असर पास नहीं आता. ख़राब समय में यह चमत्कारी रूप से कष्टों को कम करता है. इसके प्रभाव से जीवन में मनोवांक्षित सफलता प्राप्त की जा सकती है. जब भी घर से निकलें तो पारद शिवलिंग के दर्शन करके निकलें. प्रातः स्नान के बाद स्वच्छ वस्त्र पहनकर रुद्राक्ष माला से ॐ नमः शिवाय मंत्र का एक माला जप करें और कुछ देर पारद शिवलिंग का त्राटक पूर्ण दर्शन करें.
पारद शिवलिंग का स्पर्श मनुष्य को यदा कदा ही करना चाहिए. पारद शिवलिंग का दर्शन करने मात्र से ही अभीष्ट की सिद्धि होती है. पारद शिवलिंग का बार-बार जलाभिषेक नहीं करना चाहिए.

गणेश शंख

Written by sdmadan. Posted in Other Topics, उपाय

गणेश शंख

गणेश शंख को भगवान श्री गणेश का प्रतीक माना गया है. यह एक दुर्लभ से मिलने वाला शंख है.  आकृति में यह शंख श्री गणेश जी के सामान शुण्ड  वाला दिखाई देता है. यह चमकदार सफ़ेद और पीली आभा वाला होता है. लम्बाई में यह ३ से ४ इंच तक का होता है. इस शंख को देखने से एसा लगता है जैसे कि भगवान गणेश के दर्शन कर रहे हो. यह शंख भाग्यशाली व्यक्तियों को ही प्राप्त हो पाता है. गणेश शंख भगवान गणेश के सामान अपने भक्तों के सारे विघ्नों को दूर करके कष्टों का निवारण करता है. गणेश शंख जहाँ भी होता है श्री गणेश कि कृपा उस स्थान पर अवश्य रहती  है.

गणेश शंख के अनुभूत प्रयोग इस प्रकार हैं -

१. गणेश शंख के नित्य दर्शन करने से रुकावटें दूर होती है. कार्य बनाने लगते हैं.

2. जिन व्यक्तियों को बार – बार व्यापार में नुकसान होता हो वे एक बार गणेश शंख का पूजन करके इसका चमत्कार देख सकते हैं. तत्काल ही नुकसान होना बंद हो जातें हैं. व्यापार में लाभ के लिए गणेश शंख को बुधवार के दिन पूजाघर में स्थापित करना चाहिए.

३. जिसको बार बार बीमारियाँ घेरती हों उसे गणेश शंख में जल भरकर पीने से बहुत आराम मिलता है. विशेष रूप से बुध कि दशा में रोग होने पर गणेश शंख में जल पीने से चमत्कारिक लाभ मिलता है.

४. जिस प्रकार से गणेश जी सभी देवताओं में प्रथम पूज्य हैं. उसी तरह से गणेश शंख का पूजाघर में सबसे पहले होना आवश्यक है.

५. गणेश शंख में कलि गाय का दूध भरकर पीने से संतान का सुख जरुर मिलता है. जिन दम्पत्तियों को बिना किसी कमी के बाबजूद संतान नहीं हो रही हो उन्हें यह प्रयोग करके अपनी कामना तुरंत पूरी करनी चाहिए.

६. गणेश शंख को बजाया नहीं जाता. इसके नित्य दर्शन करने वाले व्यक्ति को बुद्धिजीवियों का सहयोग मिलता है. गणेश शंख का दर्शन करने वाले कि बुद्धि भ्रमित नहीं होती.

७. गणेश शंख को पीले वस्त्र पर स्थापित करना चाहिए.

ग्रहों की दक्षिणा

Written by sdmadan. Posted in उपाय

ग्रहों की दक्षिणा

सूर्य की प्रसन्नता के लिए धेनु, चंद्रमा की प्रसन्नता के लिए शंख, मंगल की प्रसन्नता के लिए लाल बैल, बुध की प्रसन्नता के लिए सोना, गुरु की प्रसन्नता के लिए पीताम्बर, शुक्र की प्रसन्नता के लिए सफ़ेद घोड़ा, शनि की प्रसन्नता के लिए काली गौ, राहु की प्रसन्नता के लिए बकरा ब्रह्मण को दान में देना चाहिए.

  • 1
  • 3
  • 5
  • blog
  • lal-kitab
  • om
  • swastika
  • vastua

Quote

At Grahshakti.com we make the people aware for coming misery events and it make us happy when people tell us we really helped them by make them conscious for the same.

Contact Us

Powered By Indic IME